” विश्व तंबाकू निषेध दिवस”” के उपलक्ष में एक रैली का आयोजन

” विश्व तंबाकू निषेध दिवस”” के उपलक्ष में एक रैली का आयोजन किया गया जिसमेंओम शांति भवन एटा रोड से रैली निकल कर बड़े चौराहे तक पहुंची वहां पर सभी को व्यसनों से मुक्त रहने की शिक्षा दी बीड़ी तंबाकू के ऊपर विशेष प्रकाश डाला सेवा केंद्र प्रभारी बीके विजय बहन जी, ने नारे के माध्यम से सभी को बीड़ी छोड़ने का संकल्प दिलाया ढाई इंच की बीड़ी है ,यही मौत की सीडी है , धूम्रपान को कहैं ना सेहत को कहैं हाँ,कब तक धुंआ बीड़ी का निकालोगे , एक दिन बीड़ी धुंआ तुम्हारा निकालेगी, तंबाकू की आदत, कैंसर को दावत, तम्बाकू को जो चबाएंगे ,केंसर का रोग पायेगा, तम्बाकू का नशा, जीवन की दुर्दशा । बीड़ी पी कर ख़ास रहा है, मौत के आगे नाच रहा है, बीड़ी सिगरेट और शराब मानव जीवन करें खराब ,यह नारे सभी यात्रियों ने देते हुए इस यात्रा को संपन्न किया। बी के राजू भाई ,बीके भगवती भाई ,बीके धीरज भाई ,बीके विजेंद्र भाई ,बीके मनमोहन भाई, बीके गजेंद्र भाई ,बीके पप्पू भाई, बीके कालीचरण भाई, बीके खेतपाल सिंह भाई, चुन्नीलाल भाई, बी के . तनु बहन, रेनू बहन ,मधु बहन, रंजना बहन, प्रिया बहन, खुशी बहन ,आदि रहे मौजूद।

“Social service campaign – Jammu to Mumbai – April 28 to June 16, 2019” reached Agra on May 14, 2019.

“Social service campaign – Jammu to Mumbai – April 28 to June 16, 2019” reached Agra on May 14, 2019.

Agra Idgah – International Dance Day Program – ​अंतर्राष्ट्रीय नृत्य दिवस कार्यक्रम

ब्रह्माकुमारिज़ के कला एवं संस्कृति प्रभाग तथा नृत्य ज्योति कत्थक केंद्र के विविध नृत्य कलाओं में प्रवीण बच्चों ने अंतरारष्ट्रीय नृत्य दिवस की पूर्व संध्या पर प्रभु मिलन केंद्र, ईदगाह, आगरा के सभागार में विविध नृत्य प्रस्तुत किये |
इस अवसर पर नृत्य ज्योति कत्थक केंद्र की निदेशक ज्योति खंडेलवाल ने कहा कि यह दिवस महान रिफॉर्मर जॉन जॉर्ज नावेरे के जन्म की स्मृति में मनाया जाता है | यूनेस्को के अंतरारष्ट्रीय थिएटर इंस्टीट्यूट ने २९ अप्रैल 1982 को प्रतिवर्ष इस दिन को अंतरारष्ट्रीय नृत्य दिवस के रूप में मनाने की घोषणा की |

अतिथियों का स्वागत करते हुये केंद्र प्रभारी बी.के.अश्विना बहन ने कहा – नृत्य एक साधना है, भगवान् की आराधना है| भारतीय संस्कृति में यह प्राचीन काल से उपस्तिथ है| शास्त्रीय नृत्य व्यक्ति के जीवन में शांति एवं अनुशासन लाता है तथा प्रेम की वृद्धि करता है| आध्यामिक ज्ञान एवं राजयोग का नियमित अभ्यास नृत्यकला के साधकों को प्रवीणता की ओर ले जाता है |

कार्यकर्म की थीम शहीदों की अभिलाषा, स्वर्णिम भारत की आशा रही | कार्यकर्म में नाट्य पितामह राजेन्द्र रघुवंशी को उनके जन्म शताब्दी के अवसर पर श्रद्धांजलि अर्पित की गयी| कार्यकर्म में प्रोफेसर वीणा शर्मा कुलसचिव, केंद्रीय हिंदी संस्थान, बृज खंडेलवाल वरिष्ट पत्रकार, पंडित केशव तलेगांवकर, श्रुति सिन्हा कवित्री, दिलीप रघुवंशी रास्ट्रीय महासचिव इप्टा, ब्रह्माकुमारिज़ हेड क्वार्टर से पधारे बी.के.गोपाल भाई, बी.के.श्रीराम भाई की सम्मानीय उपस्तिथ रही | बी.के.अमर भाई, बी.के.राज, बी.के.आशु बहिन ने कार्यकर्म की व्यवस्था संभाली |

फोटो कैप्शन :
म्यूजिकल डांस ड्रामा के उद्धघाटन, दीप प्रज्वलन में प्रो.वीणा शर्मा कुल सचिव केंद्रीय हिन्दी संस्थान,दिलीप रघुवंशी राष्ट्रीय महा सचिव,भारतीय जन नाट्य संघ,ब्रिज खंडेलवाल वरिष्ठ पत्रकार, पंडित केशव तलेगांवकर संगीतज्ञ,श्रुति सिन्हा कवियत्री,ज्योति खंडेलवाल निदेशक नृत्य ज्योति कथक केंद्र,बी के अश्विना केंद्र प्रभारी एवं अन्य | 

22 अप्रैल 2019, टूण्डला( रामनगर): ब्रम्हाकुमारी सेवा केंद्र पर बनाया गया “विश्व पृथ्वी दिवस”

22 अप्रैल 2019, टूण्डला( रामनगर): ब्रम्हाकुमारी सेवा केंद्र पर बनाया गया “विश्व पृथ्वी दिवस” जिसमें मुख्य अतिथि बहन रेखा गुप्ता जूलॉजी अध्यापिका (क्राइस्ट द किंग )कॉलेज उन्होंने अपने शब्दों से पृथ्वी को शुद्ध बनाने की बात कही वातावरण दूषित हो रहा है हमारे यहां पहले हेडपंप हुआ करते थे कुआं होते थे हम पानी खींचे थे और आज सभी समर सेवल से पानी निकालते हैं जिससे अच्छा पानी रहा ही नहीं । हम प्रकृति से लेकर जितना शुभ वाइब्रेशन देंगे उतना हमारा वातावरण शुद्ध होगा। सेवा केंद्र प्रभारी बी के विजय बहन जी, ने बताया धरती की बस यही पुकार धरती कह रही बार-बार सुन लो मनुष्य मेरी पुकार बड़े-बड़े महलों को बनाकर मत डालो मुझ पर भार पेड़ पौधों को नष्ट करके मैं तो झाड़ू मेरा संसार धरती की बस यही पुकार । पृथ्वी हमारी धरोहर है इसकी रक्षा करना हमारा कर्तव्य है प्रकृति द्वारा कुछ चीजें उपहार के रूप में प्रकृति ने हमें सूर्य चांदल नदियां पहाड़ और धरती के नीचे छिपी हुई हमारी सहायता के लिए प्रदान किए हैं मनुष्य अपनी मेहनत से धन कमा सकता है लेकिन प्रकृति की धरोहर को अथक प्रयास करने के पश्चात भी बड़ा नहीं सकता प्रकृति द्वारा दी गई यह सभी चीजें सीमित हैं पर हम रहने वाले तमाम जीव जंतुओं और पेड़-पौधों को बचाने तथा दुनिया भर में पर्यावरण के प्रति जागरूकता बढ़ाने के लक्ष्य के साथ 22 अप्रैल के दिन पृथ्वी दिवस यानी अर्थ डे मनाने की शुरुआत की गई थी 1970 में शुरू की गई इस परंपरा को 192 देशों ने खुली आंखों से अपनाया और आज लगभग पूरी दुनिया में प्रतिवर्ष पृथ्वी दिवस के मौके पर धरा की धनी चुनर को बनाए रखने और हर तरह के जीव जंतुओं को पृथ्वी पर उनके हिस्से का स्थान और अधिकार देने का संकल्प लिया जाता है उसके पश्चात सभी मंचासीन अतिथियों ने दीपप्रज्वलन किया ।ग्लोव के मॉडल को हाथ में लेकर संकल्प किया कि 5 जून को हम एक वृक्ष जरुर लगाएंगे, इस मौके पर नेत्रपाल सिंह प्राकृतिक चिकित्सक, डॉ. डी. के.जैन प्रधानाचार्य (सिटी पब्लिक स्कूल) टूण्डला राजेंद्र पाल सिंह (A.D.O.) खेतपाल सिंह(प्रधानाध्यापक)उ.प्र. भगवती प्रसाद सिंह(कृषक)सभी मंच पर रहे मौजूद।दूर दूर से आए हुए हमारे किसान भाई चुन्नीलाल भाई काले सिंह भाई प्रीत भाई मनोज भाई आदि उपस्थित रहे ।इसे सुंदर रूप देने वाली बहनें, तनु बहन ,पूजा बहन, प्राची बहन, चित्रा बहन, ममता बहन ,दीपू बहन आदि मौजूद रहे ।

माननीय सांसद व अभिनेता श्री राज बब्बर व विधायक श्री भगवान सिंह कुशवाह आगरा म्यूजियम पर अवलोकन के लिए पहुंचे

17 अप्रैल, 2019 माननीय सांसद व अभिनेता श्री राज बब्बर व विधायक श्री भगवान सिंह कुशवाह आगरा म्यूजियम पर अवलोकन के लिए पहुंचे । साथ ही उन्हें म्यूजियम इंचार्ज बी.के. मधु बहन व बी. के माला बहन तथा सभी बहनों ने ईश्वरीय सौगात दी । (फोटो संलग्न है)

सांसद श्री राज बब्बर व भगवान सिंह कुशवाहा जी ने म्यूजियम की सेवाओं की सराहना की और कहा की यह राजयोग सभी के लिए महत्वपूर्ण है।

टूण्डला (रामनगर):ब्रह्माकुमारी सेवा केंद्र पर बड़े ही धूमधाम से चैत्र नवरात्री चैतन्य देवियों की झांकी का आयोजन

टूण्डला (रामनगर):ब्रह्माकुमारी सेवा केंद्र पर बड़े ही धूमधाम से चैत्र नवरात्री चैतन्य देवियों की झांकी का आयोजन किया गया जिसमें मुख्य अतिथि डॉ.आँसू गुप्ता(D T M धर्म पत्नी) साथ में बहन प्रतिभा उपाध्याय जी(स्वीप ब्रांड अवेन्सडेर) शिव प्प्रसाद मेमोरियल बालिका महाविद्याल की प्रधानाचार्या (बहन लक्षमी जी)ने फीता काटकर किया उद्धघाटन सभी देवियों का दर्शन कर दीप प्रज्वलन किया।और आरती कर देवियों से लिया आशीर्वाद तथा सभी अतिथियों ने चैतन्य देवियों को पुष्प माला पहनाकर किया सम्मान इसी बीच सेवाकेंद्र प्रभारी बी.के.विजय बहन जी ने बताया नवरात्रि का आध्यात्मिक रहस्य, भारत हमारा अध्यात्म प्रधान देश है जिस की सभ्यता और संस्कृति बहुत ही श्रेष्ठ है। यह श्रेष्ठ सभ्यता और संस्कृति हमारे त्योहारों में झलकती है ऐसी एक त्यौहार नवरात्रि का जिस नवरात्रि के त्यौहार में बड़े ही धूमधाम से भारत भर में सभी मनाते हैं देवियों का पूजन करते हैं उपवास करते हैं ,और कितना उमंग उत्साह के अंदर आ जाते हैं भारत में वैसे दो नवरात्रि मनाई जाती है और यह नवरात्रि हमेशा ऋतु परिवर्तन होती है तभी आती है नवरात्रि अर्थात कोई 24 घंटे के दिन और रात्रि की बात नहीं परंतु जिस प्रकार श्रीमद भगवत गीता में कहा हुआ है कि ब्रह्मा की रात्रि ब्रह्मा का दिन सतयुग, त्रेता है ब्रह्मा का दिन ,और द्वापर ,कलयुग है ब्रह्मा की रात इसी प्रकार जब संसार में अज्ञानता की रात्रि छा जाती है तो ऐसे समय पर ही परमात्मा भी संसार में शक्तियों की उत्पत्ति करते हैं जिससे अंधकार अज्ञानता का समाप्त हो और मनुष्य जीवन में ज्ञान का प्रकाश फैल सके ऐसे समय पर यह त्योहार मनाए जाते हैं उसका यह आध्यात्मिक भाव है इसीलिए सभी त्योहारों के साथ रात्रि शब्द का विशेष महत्व होता है क्योंकि रात्रि के समय पर व्यक्ति तपस्या करता है आराधना करता है तो विशेष शक्तियां ,को सिद्धियों ,को प्राप्त कर सकता है तभी हर त्योहार रात्रि के साथ संबंध रखता है चाहे वह दीपावली हो, होली हो ,शिवरात्रि हो नवरात्रि हो ,इन सभी का रात्रि के साथ बहुत गहरा संबंध है और यह रात्रि अज्ञानता की रात्रि को समाप्त करने वाली बात है साथ ही साथ इन्हीं दिनों पर मंदिरों में घंटा बजाते हैं शंख बजाते हैं और यह सब बजाने के पीछे एक ध्वनि उत्पन्न करते हैं।कि जिन ध्वनि से भी जो तामसिक वातावरण के अंदर है उस तामसिक वातावरण को समाप्त कर आसुरियत वातावरण के अंदर जो प्रवृत्ति है व्यक्ति के अंदर उसे समाप्त कर उसके अंदर एक ऊर्जा को जागृत करने की बात है। और इसीलिए इस नवरात्रि में विशेष इन्हीं बातों के आधार पर नौ देवियों का गायन है इस नवरात्रि त्योहार में व्यक्ति विशेष क्या करते हैं तो इन्हीं दिनों में सबसे पहले कलश की स्थापना होती है, दूसरा अखंड दीप जलाते हैं, तीसरा व्रत नियम उपवास रखते हैं, और चौथा कन्या पूजन करते हैं, यह सब बातों के पीछे भी आध्यात्मिक भाव है सर्वप्रथम कलश की स्थापना अर्थात निराकार परमपिता परमात्मा शिव संसार में आते हैं तो हमारी बुद्धि के अंदर ज्ञान का कलश जिस ज्ञान के कलश की स्थापना से अज्ञानता का अधिकार नष्ट होता है दूसरा अखंड दीप जलाते हैं अर्थात आत्मा की ज्योति को प्रगताते हैं ।उसमें ज्ञान का घृत जब पड़ता है तब आत्म ज्योति निरंतर जलने लगती है। अखंड दीप हमारा जागृत हो जाता है अर्थात जीवन के अंदर कोई न कोई हमें इन्हीं दिनों में धारण करना होता है इसलिए 9 दिन विशेष कोई ना कोई दृढ़ संकल्प को अपने मन के अंदर धारण करते हैं नियम अर्थात इन्हीं दिनों में कोई विशेष नियम को अपनाते हैं कि प्रतिदिन रोज सवेरे उठना और उठ कर के कुछ न कुछ आराधना करना परमात्मा को याद करना और, उपवास करते हैं उसके पीछे भाव यही है मनुष्य के मनोबल में वृद्धि हो तो व्रत नियम और हमारे अंदर मानसिक शक्ति की वृद्धि होती है हमारा मनोबल बढ़ता है और इन्हीं दिनों में कन्या पूजन भी करते हैं इस कन्या पूजन के पीछे भी भाव यही है कि जो संसार के अंदर कन्याएं है उनका सम्मान करना और जब इन का सम्मान करते हैं तो परमात्मा भी प्रश्न रहते है ।जिस घर में कन्याओं का मान होता है उस घर में देवताओं का वास होता है जहां सिर्फ सभ्यता और संस्कृति दिव्यता का संचार होता है वही मां लक्ष्मी की पदरा मणि होती है ।शक्ति की देवी दुर्गा है जीवन में तीन देवियों का भी बहुत महत्व है विशेष स्थान है जीवन के अंदर तीन चीजों की आवश्यकता मानी जाती है ।बाद में सभी अतिथियों को स्मृति चिन्ह देकर किया सम्मानित i तथा दर्शनों के लिए भक्तजनो की लगी रही कतार |

Agra : Art Gallery Museum

8 मार्च 2019, टूंडला(रामनगर): ब्रम्हाकुमारी सेवा केंद्र पर बड़े ही धूमधाम से मनाया

8 मार्च 2019, टूंडला(रामनगर): ब्रम्हाकुमारी सेवा केंद्र पर बड़े ही धूमधाम से मनाया गया अंतर्राष्ट्रीय महिला दिवस जिसमें आगरा से आयी राजयोगिनी बी.के. कंचन बहन जी, केंद्र प्रभारी कहरइ मोड़ से आई, उन्होंने अपने वक्तव्य में बहुत ही सुंदर विचार व्यक्त किए अगर हम परमात्मा की याद में रहकर भोजन बनाएंगेतो पूरे घर का वातावरण और विचार पवित्र हो जाएंगे देवियों की जितनी भुजाएं दी हैं वह शक्ति का रूप दिया है इसी बीच, हिमाचल से आई निधि बहन जी, ने नारी एक शक्ति अगर नारी अपने अंदर की शक्ति को जगा ले तो वह ऊर्जावान बन सकती है नारी अंदर से शक्तिशाली होगी तभी घर स्वर्ग बनेगा जब मेरा मन और तन पवित्र होगा तभी घर स्वर्ग बनेगा संकल्प लें कि मैं घर को स्वर्ग बना कर ही छोडूंगी आज का दिवस सही रूप तभी होगा कि अपने विचारों में परिवर्तन करें इसी बीच आगरा कहरई मोड़ से शहर संचालिका रेखा बहन जी ने कहा माता प्रथम गुरु है मुझे अपने अंदर के गुणों को देखना है गंगा जमुना सरस्वती जो नाम पढ़े हैं वह भी माताओं के नाम पर ही हैं माताएं अपने आप को कमजोर ना समझे माताओं में सब सकती है दुर्गा ने जंगल के शेर की सवारी की सहन करना भी एक सकती है हमें अपने स्वरूप को पहचान करने हैं आज की मुख्य अतिथि बहन सीमा आर्य पतंजलि महिला मंडल कार्यकारिणी सदस्य, ने कहा पहले शक्तिहीन थी अब नारियों को जागृत होना है अपने स्वरूप को जगाना है पहले आचार्य नारी हुआ करती थी ह्रदय से सभी को प्यार देना है ईश्वर की बनाई हुई हर कृति सुंदर है व्यवहार और वाणी से ही देवी गुड आते हैं इसी बीच टूण्डला सेवा केंद्र प्रभारी बीके विजय बहन जी ने मंच का बखूबी संचालन किया और उन्होंने नारियों के लिए दो शब्द कहें “”नारी तुम प्रेम हो आस्था हो, विश्वास हो टूटी हुई उम्मीदों की एकमात्र आस हो , हर जान नहीं तुम ही तो आधार हो नफरत की दुनिया में मात्र तुम ही प्यार हो उठो नारी अपने अस्तित्व को संभालो केवल 1 दिन ही नहीं “हर दिन नारी दिवस मना लो “हर दिन नारी दिवस मना लो “बी के राधिका बहन जी ने कहां बोए जाते हैं बेटे उग आती हैं बेटियां खाद पानी दिया जाता है बेटों को लहर आती है बेटियां इन शब्दों के द्वारा सभी माताओं का मन मोह लिया तनु बहन जी ने बहुत ही प्रभु चिंतन का गीत प्रस्तुत किया पूजा बहन और मोना बहन ने सभी को मेडल पहनाकर सम्मानित किया इसी बीच बहन साधना धाकरे जी ब्यूरो चीफ अमर उजाला धर्म पत्नी ने, माताओं को हर दिन खुशियां में रहना चाहिए। संध्या सिंह बॉबी कंप्यूटर डायरेक्टर टूंडला उन्होंने माताओं की सराहना करते हुए कहा नारी जब जग जाएगी स्वर्ग धरा पर लाएगी बहन ललिता गर्ग( गर्ग टेंट हाउस) उन्होंने आज के दिवस की बहुत सराहना की बीके धीरज भाई सोनिया बहन सुगरण भाई आकाश भाई माया माता जनक माता उस्मा माता ऋषि माता कस्तूरी माता आदि मौजूद रहे श्री कृष्ण की झांकी और नृत्य के माध्यम से सबका मन मोह लिया।

ओम शांति सेक्टर 7 सिकंदरा में शिव जयंती का कार्यक्रम

ओम शांति सेक्टर 7 सिकंदरा में शिव जयंती का कार्यक्रम बहुत ही धूमधाम से मनाया गया इसमें काफी संख्या में भाई बहनों ने भाग लिया इसके मुख्य अतिथि आगरा जोन प्रभारी शीला दीदी मेंटल हॉस्पिटल के डायरेक्टर डॉक्टर सुधीर जैन सीए शरद भाई ज्योतिष विद्या में निपुण बहन उषा पारेख सिकंदरा सेंटर इंचार्ज सरिता दीदी अवधपुरी इंचार्ज गीता दीदी शास्त्रीपुरम इंचार्ज मधु बेन जी टूंडला इंचार्ज विजय बहन सभी उपस्थित रहे

टूंडला (रामनगर): त्रिमूर्ति शिव जयंती महोत्सव तथा सेवा केंद्र का वार्षिकोत्सव मनाया

टूंडला (रामनगर): त्रिमूर्ति शिव जयंती महोत्सव तथा सेवा केंद्र का वार्षिकोत्सव मनाया गया। प्रजापिता ब्रह्माकुमारी ईश्वरीय विश्वविद्यालय की रामनगर एटा रोड स्थित टूंडला शाखा के द्वारा महाशिवरात्रि के पावन पर्व तथा ब्रह्माकुमारी केंद्र का पांचवां वार्षिकोत्सव बड़ी धूमधाम से मनाया गया। इस अवसर पर ब्रह्माकुमारी आश्रम के भाई बहनों द्वारा बाइक रैली तथा कार रैली निकाली गई जोकि रेलवे स्टेशन चौराहे से प्रारंभ होकर टूंडला के मुख्य रास्तों से होती एटा रोड स्थित एलएस मैरिज होम तहसील के पीछे पहुंची और एक सभा के रूप में बदल गई । बाइक रैली का शुभारंभ टूंडला नगर के एसएचओ साहब ने शिव बाबा का झंडा दिखाकर के किया । सभी भाई बहन नगर में परमात्मा का संदेश देते हुए नारे लगाते हुए एल.एस मैरिज होम पहुंचे जहां पर एक रंगारंग कार्यक्रम का आयोजन किया गया कार्यक्रम की अध्यक्षता ईदगाह सेवा केंद्र आगरा से पधारी राजयोगिनी ब्रह्माकुमारी अश्विना दीदी ने की। उन्होंने अपने वक्तव्य में पिता परमात्मा के द्वारा दी जा रही शिक्षाओं पर प्रकाश डालते हुए सभागार में उपस्थित सभी भाई बहनों को उनके जीवन का मूल्य समझाने का प्रयास किया उन्होंने कहा कि पिता परमात्मा के द्वारा प्रदत यह शरीर हमें परोपकार करके सही मायने में प्रयोग करना चाहिए। मोहन नगर शाहदरा चुंगी स्थित सेवा केंद्र की प्रभारी ब्रह्माकुमारी विनीता बहन ने परमात्मा का विशेष परिचय देकर लोगों का मन मोह लिया। कार्यक्रम में दाऊजी बलदेव से पधारी ब्रह्माकुमारी सीमा बहन, दयालबाग सेवा केंद्र से पधारी ब्रम्हाकुमारी रानी बहन शमशाबाद सेवा केंद्र से पधारी ब्रम्हाकुमारी लक्ष्मी बहन सिकंदरा सेवा केंद्र से पधारी ब्रह्मा कुमारी सरिता बहन , पश्चिम पुरी सेवा केंद्र से पधारी ब्रह्माकुमारी मधु बहन ने अपने विचारों के माध्यम से संस्था का परिचय दिया , परमात्मा का संदेश सुनाया तथा शिवरात्रि के सच्चे रहस्य पर गहराई से प्रकाश डाला। हिमाचल से पधारी ब्रह्माकुमारी निधि बहन ने भी अपने विचार व्यक्त किए। आगरा से डॉ माया चौधरी ने भी अपने विचारों के माध्यम से सभी को जीवन में परमात्मा की शिक्षाएं लाने के लिए प्रेरित किया। नगर के चेयरमैन भ्राता राम बहादुर चक साहब अपने वक्तव्य के माध्यम से सभी का आह्वान किया परमात्मा के द्वारा दिए गए संदेश एवं ईश्वरीय ज्ञान की बातों को सभी को अपने जीवन में अपनाना चाहिए इस अवसर पर उन्होंने कुछ दृष्टांत दे करके ईश्वरी शिक्षाओं को समझाने का प्रयास किया, कार्यक्रम के मध्य कुमारी आरजू और मनु ने नृत्य करके शमा बांध दिया। कार्यक्रम की शुरुआत पिता परमात्मा की शिवलिंग के समक्ष दीप प्रज्वलन कर के की गयी। साथ ही सेवा केंद्र के वार्षिकोत्सव के उपलक्ष में केक काटकर कार्यक्रम में चार चांद लग गये। तत्पश्चात शिव बाबा का ध्वजारोहण किया गया और सभी को एक प्रतिज्ञा कराई गई । कार्यक्रम के मध्य पुलवामा में शहीद हुए 40 शहीदों को शांति में खड़े होकर सच्ची श्रद्धांजलि दी गई । शहीदों को नमन किया गया। हरिदत्त शर्मा ने अपने ईश्वरीय गीतों के माध्यम से शमा बांध दिया। अंत में सभी को प्रसाद वितरण किया गया। तथा ब्रह्मा भोजन भी कराया गया। इस अवसर पर ब्रह्माकुमारी ज्योति बहन, रेनू बहन, राधिका बहन ,तनु बहन पूजा बहन ,कीर्ति बहन, चित्रा बहन, ब्रह्मा कुमार धीरज भाई , सोबरन भाई, नरेश भाई, भरत भाई ,भगवती भाई ,राजू भाई, लक्ष्मण भाई आदि मौजूद रहे कार्यक्रम के अंत में ब्रह्माकुमारी विजय बहन ने सभी का आभार व्यक्त किया कार्यक्रम का संचालन आगरा से पधारे ब्रह्मा कुमार हरिदत्तसभी भाई कार्यक्रम का आयोजन सेवा केंद्र आगरा से पधारी राजयोगिनी ब्रह्माकुमारी अश्विना दीदी ने की। उन्होंने अपने वक्तव्य में पिता परमात्मा के द्वारा दी जा रही शिक्षाओं पर प्रकाश डालते हुए सभागार में उपस्थित सभी भाई बहनों को उनके जीवन का मूल्य समझाने का प्रयास किया उन्होंने कहा कि पिता परमात्मा के द्वारा प्रदत यह शरीर हमें परोपकार करके सह बहन ने परमात्मा का विशेष परिचय देकर लोगों का मन मोह लिया। कार्यक्रम में दाऊजी बलदेव से पधारी ब्रह्माकुमारी सीमा बहन, दयालबाग सेवा केंद्र से पधारी ब्रम्हाकुमारी रानी बहन शमशाबाद सेवा केंद्र से पधारी ब्रम्हाकुमारी लक्ष्मी बहन सिकंदरा सेवा केंद्र से पधारी ब्रह्मा कुमारी सरिता बहन , पश्चिम पुरी सेवा केंद्र से पधारी ब्रह्माकुमारी मधु बहन ने अपने विचारों के माध्यम से संस्था का परिचय दिया , परमात्मा का संदेश सुनाया तथा शिवरात्रि के सच्चे रहस्य पर गहराई से प्रकाश डाला। हिमाचल से पधारी ब्रह्माकुमारी निधि बहन ने भी अपने विचार व्यक्त किए। आगरा से डॉ माया चौधरी ने भी अपने विचारों के माध्यम से सभी को जीवन में परमात्मा की शिक्षाएं लाने के लिए प्रेरित किया। नगर के चेयरमैन भ्राता राम बहादुर चक साहब अपने वक्तव्य के माध्यम से सभी का आह्वान किया परमात्मा के द्वारा दिए गए संदेश एवं ईश्वरीय ज्ञान की बातों को सभी को अपने जीवन में अपनाना चाहिए इस अवसर पर उन्होंने कुछ दृष्टांत दे करके ईश्वरी शिक्षाओं को समझाने का प्रयास किया, कार्यक्रम के मध्य कुमारी आरजू और मनु ने नृत्य करके शमा बांध दिया। कार्यक्रम की शुरुआत पिता परमात्मा की शिवलिंग के समक्ष दीप प्रज्वलन कर के की गयी। साथ ही सेवा केंद्र के वार्षिकोत्सव के उपलक्ष में केक काटकर कार्यक्रम में चार चांद लग गये। तत्पश्चात शिव बाबा का ध्वजारोहण किया गया और सभी को एक प्रतिज्ञा कराई गई । कार्यक्रम के मध्य पुलवामा में शहीद हुए 40 शहीदों को शांति में खड़े होकर सच्ची श्रद्धांजलि दी गई । शहीदों को नमन किया गया। इस अवसर पर आगरा से पधारे वरिष्ठ ब्रह्माकुमार ब्रह्मा कुमार हरिदत्त भाई ने कियi — ईश्वरीय सेवा में बी.के. विजय बहन 9758409833